Last Updated:
April 30, 2024

Posts tagged "Omkareshwar Jyotirlinga"
Per Page :

Omkareshwar Jyotirlinga – जहाँ भगवान शिव खेलते है चौसर

भगवान शिव से जुड़े बारह ज्योतिर्लिंगों में से मध्य प्रदेश स्थित Omkareshwar Jyotirlinga मंदिर को चौथा स्थान पर रखा जाता है. यहां पर भगवान शंकर नर्मदा नदी के किनारे ॐ के आकार वाली पहाड़ी पर विराजमान हैं. हिंदू धर्म के अनुसार ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिग को लेकर कई मान्यताएं हैं. जिसमें सबसे बड़ी मान्यता यह है कि भगवान शिव तीनों लोक का भ्रमण करके प्रतिदिन इसी मंदिर में रात के समय सोने के लिए आते हैं. इसके अलावा महादेव के इस चमत्कारी और रहस्यमयी ज्योतिर्लिंग को लेकर यह भी कहा जाता है कि इस पावन तीर्थ पर बिना जल चढ़ाए व्यक्ति की सारी तीर्थ यात्राएं अधूरी मानी जाती है.   Omkareshwar Jyotirlinga इतिहास और महत्व ओंकारेश्वर शब्द “ओम” शब्द से लिया गया है, जिसे ब्रह्मांड का प्रतीक माना जाता है और “कारा” का अर्थ भगवान शिव हैं। माना जाता है कि मंदिर का निर्माण 11वीं शताब्दी में परमार वंश द्वारा किया गया था जिन्होंने मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र पर शासन किया था। ऐसा कहा जाता है कि मंदिर को एक अनोखे तरीके से बनाया गया था कि यह ऊपर से देखने पर पवित्र हिंदू प्रतीक “ओम” जैसा दिखाई देता है।   Omkareshwar Jyotirlinga बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है, जिन्हें भगवान […] read more
0 Views : 18

Omkareshwar Jyotirlinga – जहाँ भगवान शिव खेलते है चौसर

भगवान शिव से जुड़े बारह ज्योतिर्लिंगों में से मध्य प्रदेश स्थित Omkareshwar Jyotirlinga मंदिर को चौथा स्थान पर रखा जाता है. यहां पर भगवान शंकर नर्मदा नदी के किनारे ॐ के आकार वाली पहाड़ी पर विराजमान हैं. हिंदू धर्म के अनुसार ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिग को लेकर कई मान्यताएं हैं. जिसमें सबसे बड़ी मान्यता यह है कि भगवान शिव तीनों लोक का भ्रमण करके प्रतिदिन इसी मंदिर में रात के समय सोने के लिए आते हैं. इसके अलावा महादेव के इस चमत्कारी और रहस्यमयी ज्योतिर्लिंग को लेकर यह भी कहा जाता है कि इस पावन तीर्थ पर बिना जल चढ़ाए व्यक्ति की सारी तीर्थ यात्राएं अधूरी मानी जाती है.   Omkareshwar Jyotirlinga इतिहास और महत्व ओंकारेश्वर शब्द “ओम” शब्द से लिया गया है, जिसे ब्रह्मांड का प्रतीक माना जाता है और “कारा” का अर्थ भगवान शिव हैं। माना जाता है कि मंदिर का निर्माण 11वीं शताब्दी में परमार वंश द्वारा किया गया था जिन्होंने मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र पर शासन किया था। ऐसा कहा जाता है कि मंदिर को एक अनोखे तरीके से बनाया गया था कि यह ऊपर से देखने पर पवित्र हिंदू प्रतीक “ओम” जैसा दिखाई देता है।   Omkareshwar Jyotirlinga बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है, जिन्हें भगवान […] read more
0 Views : 17